एक रानी के प्यार की कहानी the love of a queen


भारत में, राजस्थान में, एक राजा के साथ ऐसा हुआ। उसकी युवा पत्नी उससे बहुत प्यार करती थी और उसके लिये पूरी तरह से समर्पित थी। पर, उन दिनों, राजाओं की बहुत सी रखैलें भी हुआ करतीं थीं। तो उस राजा को ये लगता था कि रानी का उसके लिये इस तरह आकर्षित रहना बेवकूफी था। वैसे उसे इसमें मजा भी आता था और उसका इस तरह ध्यान देना पसंद भी था, पर कभी-कभी ये बहुत ज्यादा हो जाता था। तब वो उसे थोड़ा बहुत झटक देता और दूसरी औरतों के साथ लग जाता। लेकिन फिर भी रानी उसके लिये ही समर्पित थी।

उन राजा-रानी के पास दो मैनायें थीं। मैना, गर्म प्रदेश की चिड़िया है और अच्छी तरह प्रशिक्षित होने पर तोते से भी बेहतर बोल सकती है। एक दिन, उनमें से एक मैना मर गयी, और दूसरी बिना कुछ खाये, बस ऐसे ही बैठी रही। राजा ने उसे खिलाने की बहुत कोशिश की पर वो मैना कुछ भी नहीं खा रही थी, और फिर दो दिनों में वो भी मर गयी।

इसका राजा पर बहुत असर हुआ। “ये क्या है? हर किसी के लिये ये स्वाभाविक है कि वो अपने जीवन की सबसे पहले परवाह करे, पर ये मैना बस ऐसे ही बैठी रही और मर गयी”।

जब उसने ऐसा कहा तो रानी  बोली, “जब कोई किसी को वास्तव में बहुत प्यार करता है तो उसके लिये ये बहुत ही स्वाभाविक है कि वो दूसरे के साथ चला जाये, क्योंकि बाद में, उसके लिये जीवन का कोई मतलब नहीं रह जाता”।

तब राजा ने मजाक में पूछा, “क्या तुम्हारे साथ भी ऐसा है? क्या तुम भी मुझे इतना ज्यादा प्यार करती हो?

वो बोली, “हाँ, मेरे लिये भी ऐसा ही है”। राजा को इस बात पर बहुत मजा आया।

एक दिन राजा अपने दोस्तों के साथ शिकार करने गया। उसके दिमाग में अभी तक उस मैना का मरना और उसकी पत्नी का ये कहना कि उसके लिये भी वह सच था घूम रहा था। वो इसकी सच्चाई देखना चाहता था। तो उसने अपने कपड़ों को खून से सन दिया और सिपाही के साथ महल भेज दिया। उसने वहाँ बताया, “राजा को एक बाघ ने मार दिया है”। रानी ने उन कपड़ों को बिना आँख में आँसू लाये, बहुत आदर से लिया। उसने लकड़ियाँ मँगवाई और उनके ढेर पर राजा के कपड़े रखे और खुद भी लेट गयी। और उसने अपने प्राण छोड़ दिये।

लोगों को इस बात पर यकीन नहीं हुआ कि रानी बस इस तरह लेटी, और मर गयी। पर अब कुछ और नहीं हो सकता था तो उन्होंने उसका अंतिम संस्कार कर दिया। जब राजा को यह खबर मिली तो वो टूट गया। अपनी एक सनक पर उसने पत्नी के प्यार की परीक्षा लेनी चाही और वो वास्तव में मर गयी – उसने आत्महत्या नहीं की – वो बस चली गयी।

भारत में ऐसे बहुत से जोड़े हुए हैं कि अगर उनमें से एक मर जाता है तो दूसरा भी कुछ ही समय में मर जाता है, चाहे वो बिल्कुल स्वस्थ हो क्योंकि उनकी ऊर्जायें साथ-साथ बंधी होती हैं। अगर आप किसी दूसरे मनुष्य के साथ कुछ ऐसे खास तरह से बंधे हों कि दो जीव एक की तरह हों, तो जीने का ये अद्भुत तरीका है। ये कोई आखरी संभावना नहीं है पर फिर भी, जीवन का एक सुंदर तरीका है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.