Author: personalitydevelopments_bskd87

  • अपनी समझ बढ़ाईये, जीवन को वैसे ही देखिये, जैसा वो है see life as it is

    एक बार ऐसा हुआ। शॉर्लोक होम्स और वॉटसन पहाड़ों पर कैंपिंग करने गये। रात हुई और वे सोने चले गये। बीच रात में होम्स ने वॉटसन को कोहनी मारी और वॉटसन ने अपनी आँखें खोलीं। होम्स ने पूछा, “तुम क्या देख रहे हो”?” वॉटसन ने लेटे-लेटे ही ऊपर देखा और बोला, “मैं साफ आकाश और […]

  • बकरे और सियार – Goats and The Jackal

    एक दिन एक सियार किसी गाँव से गुजर रहा था। उसने गाँव के बाजार के पास लोगों की एक भीड़ देखी। कौतूहलवश वह सियार भीड़ के पास यह देखने गया कि क्या हो रहा है। सियार ने वहां देखा कि दो बकरे आपस में लड़ाई कर रहे थे। दोनों ही बकरे काफी तगड़े थे इसलिए […]

  • Network Marketing – The Million dollar opportunity in 21st century

    Network Marketing – The Million dollar opportunity My Dear friend, Whatever knowledge and Information I am going to share with you is based on my experience from the seminar, training, Program, audio and video. You may find many things familiar because it all is from network marketing business and my great uplines already knew it. […]

  • The Brahmin’s Dream – ब्राह्मण का सपना – शेख़चिल्ली न बनो

    शेख़चिल्ली न बनो एक नगर में कोई कंजूस ब्राह्मण रहता था । उसने भिक्षा से प्राप्त सत्तुओं में से थोडे़ से खाकर शेष से एक घड़ा भर लिया था । उस घड़े को उसने रस्सी से बांधकर खूंटी पर लटका दिया और उसके नीचे पास ही खटिया डालकर उसपर लेटे-लेटे विचित्र सपने लेने लगा, और […]

  • मूर्ख साधू और ठग – The Foolish Sage & Swindler

    एक बार की बात है, किसी गाँव के मंदिर में देव शर्मा नाम का एक प्रतिष्ठित साधू रहता था। गाँव में सभी उसका सम्मान करते थे। उसे अपने भक्तों से दान में तरह तरह के वस्त्र, उपहार, खाद्य सामग्री और पैसे मिलते थे। उन वस्त्रों को बेचकर साधू ने काफी धन जमा कर लिया था। […]

  • The Parable Of The Marbles And The Bag!

    The Parable Of The Marbles And The Bag! Once upon a time, there was a foolish boy who had a bag full of beautiful marbles. Now this boy was quite proud of his marbles. In fact, he thought so much of them that he would neither play with them himself nor would he let anyone […]

  • कुशल व्यापारी और राजसेवक – Skilled Businessman and Servicer

    वर्धमान नामक एक शहर में एक बहुत ही कुशल व्यापारी रहता था। राजा को उसकी क्षमताओं के बारे में पता था, और इसलिए उसने उसे राज्य का प्रशासक बना दिया। अपने कुशल तरीकों से उसने आम आदमी को भी खुश रखा था, और साथ ही दूसरी तरफ राजा को भी बहुत प्रभावित किया था। कुछ […]

  • बगुला भगत और केकड़ा – The Crane And The Crab

    एक वन प्रदेश में एक बहुत बडा तालाब था। हर प्रकार के जीवों के लिए उसमें भोजन सामग्री होने के कारण वहां नाना प्रकार के जीव, पक्षी, मछलियां, कछुए और केकडे आदि वास करते थे। पास में ही बगुला रहता था, जिसे परिश्रम करना बिल्कुल अच्छा नहीं लगता था। उसकी आंखें भी कुछ कमज़ोर थीं। […]

  • King Of Elephants and King of Mice – गजराज और मूषकराज

    प्राचीन काल में एक नदी के किनारे बसा नगर व्यापार का केन्द्र था। फिर आए उस नगर के बुरे दिन, जब एक वर्ष भारी वर्षा हुई। नदी ने अपना रास्ता बदल दिया। लोगों के लिए पीने का पानी न रहा और देखते ही देखते नगर वीरान हो गया अब वह जगह केवल चूहों के लायक […]

  • बिन कारण कार्य नहीं – Brahmani And Sesame Seeds – ब्राह्मणी और तिल के बीज

    एक बार की बात है एक निर्धन ब्राह्मण परिवार रहता था, एक समय उनके यहाँ कुछ अतिथि आये, घर में खाने पीने का सारा सामान ख़त्म हो चुका था, इसी बात को लेकर ब्राह्मण और ब्राह्मण-पत्‍नी में यह बातचीत हो रही थी: ब्राह्मण-“कल सुबह कर्क-संक्रान्ति है, भिक्षा के लिये मैं दूसरे गाँव जाऊँगा । वहाँ […]